नीना गौतम/ कुल्लू

जिला सहकार संघ भवन सरवरी में सहकार विकास संघ की बीओडी की बैठक संपन्न हुई। बैठक की अध्यक्षता पूर्व मंत्री एवं सहकार संघ के अध्यक्ष सत्य प्रकाश ठाकुर ने की। बैठक में निर्णय लिया गया कि जनवरी माह में कुल्लू में सहकारिता आंदोलन को बढ़ावा देने के लिए एक सेमिनार का आयोजन किया जाएगा। इस सेमिनार में सहकारिता से जुड़े लोगों को सहकारी सभाओं को चलाने व सहकारी आंदोलन को बढ़ावा देने के टिप्स दिए जाएंगे।

       प्रेस सम्मेलन को संबोधित करते हुए अध्यक्ष सत्य प्रकाश ठाकुर ने जानकारी दी कि इस सेमिनार में सभाओं के निदेशक, सचिव व उत्कृष्ट सदस्य भाग लेंगे। इस वर्कशॉप में सभाओं को चलाने के लिए वैज्ञानिक पहलुओं पर प्रकाश डाला जाएगा। सभा में सचिव की क्या भूमिका है और चैयरमेन को किस तरह दक्षतापूर्वक अपनी भूमिका निभानी चाहिए, इस पर प्रकाश डाला जाएगा।उन्होंने कहा कि सहकारी सभाओं के क्या अधिकार है और क्या कर्तव्य है, यह सब इस सेमिनार में सिखाया जाएगा। यह सेमिनार राष्ट्रीय सहकारी संघ की मदद से आयोजित होगा।

        उन्होंने कहा कि सहकारी सभाओं में सरकार का ज्यादा हस्तक्षेप नहीं होना चाहिए क्योंकि सहकारी सभाएं स्वयं मेहनत कर कमाने वाली सभाएं हैं। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा सहकारी सभाओं की ऑडिट फीस तीन गुणा से भी अधिक बढ़ाई गई है।  सरकार को इसे कम करना चाहिए। उन्होंने कहा कि जो सहकारी सभाएं घाटे में जा रही हैं, उनसे तो बहुत कम ऑडिट फीस लेनी चाहिए जबकि फायदे वाली सभाओं से ज्यादा ली जा सकती है। उन्होंने कहा कि इस समय पूरे प्रदेश में सहकारी विभागों में भारी मात्रा में पद रिक्त पड़े हैं, जिस कारण सहकारिता आंदोलन की स्पीड घट रही है। सरकार को चाहिए कि अन्य विभागों की तरह सहकारी विभागों के रिक्त पद भी भरें जाएं।

          इस अवसर पर मंडल के सभी सदस्य मौजूद रहे। इसमें डोला सिंह महंत, उर्मिला सूद, चरण दास डोगरा, प्रेम चंद शर्मा, पुष्कर राज ठाकुर, हेत राम ठाकुर, मोती राम ठाकुर, बलदेव सिंह ठाकुर, प्रेम लता कश्यप, डोलमा देवी, विद्या देवी, सुख दास नैय्यर, सेना पाल शर्मा आदि शामिल रहे।

Share.

About Author

Leave A Reply