एमबीएम न्यूज़ / नाहन
आज की भाग-दौड़ भरी जिंदगी में इंसान अपना कर्तव्य भूल गया है। आज इंसान इंसान से दूर होता जा रहा है। प्राकृतिक देखभाल को दूर की बात इंसान अपने लिए कई आफतें जन्म दे चुका है। मगर उनसे बचने के उपाय को नहीं अपना रहा है। यह बात पीठाधीश्वर महंत पितांबर शक्तिपीठ अघोरी कुटिया के वैद्यराज धनेश्वर गिरि परमहंस ने पौधा रोपित करने के बाद कही।

पौधे रोपण करते युवा

उन्होंने कहा कि जहां इंसान अपनी शादी, जन्म दिन बड़ी धूमधाम से हजारों रूपए खर्च कर मनाते है। अगर आदमी अपने जन्मदिन व शादी के दौरान एक-एक पौधा रोपित करे तो संसार से प्रदूषण नाम का शब्द हमेशा के लिए खत्म हो जाएगा। इंसान खुले आसमान के नीचे बेफिर्क होकर घूम सकता है। परमहंस ने कहा कि प्रदूषण से जहां कई प्रकार की बीमारियां जन्म ले रही है, वहीं इससे कई जानें भी जा चुकी हैं। आज हम सब को एकजुट होकर इस पर्यावरण प्रदूषण शब्द को जड़ से खत्म करने का प्रण लेना चाहिए ताकि हम सुरक्षित अपना जीवन व्यतीत कर सकें।

एक लाख पौधा रोपने का लक्ष्य

पीठाधीश्वर महंत पितांबर शक्तिपीठ अघोरी कुटिया के वैद्यराज धनेश्वर गिरि परमहंस का कहना है कि वह एक लाख पौधे रोपित करेंगे। इसके लिए उन्होंने हरियाली अभियान सुरक्षा के लिए एक अनोखी पहल के जरिए पौधे रोपने शुरू कर दिए हैं। उन्होंने कहा कि प्राकृतिक की रक्षा करना हम सभी का दायित्व है। उन्होंने युवाओं, महिलाओं व छोटे-छोटे बच्चों को साथ लेकर इस अभियान को सफल बनाने की ठानी है। उन्होंने कहा कि इस अभियान के तहत औषधीय पौधों को रोपित किया जाएगा।

Share.

About Author

Leave A Reply