बिलासपुर( अभिषेक मिश्रा ): हिमाचल प्रदेश पैरा वैटनरी काउन्सिल ने जिला सागर व्यू होटल में एक दिवसीय सेमिनार का आयोजन किया। जिसमे पशु पालन विभाग के उप निदेशक डा. जगदीप कुमार ने बतौर मुख्यतिथि शिरकत की है। इस सेमीनार में जिला के लगभग 200 पशु सह चिकित्सकों ने भाग लिया। इस सेमिनार में हिमाचल पैरा वेटनरी कोंसिल की तरफ से भूतपूर्व राज्य अध्यक्ष सुभाष राणा ने भी भाग लिया।
   हिमाचल प्रदेश पैरा वेट एसोसिएशन जिला के महासचिव ने बताया कि इस सेमिनार का उद्देश्य पशु सह चिकित्सको को फिल्ड में आ रही दिक्कतों को दूर करना एवं विभाग में नई तकनीक का ज्ञान देना है जिसके लिए विशेष चिकित्सक डा अभिषेक गांधी, डा शालिनी ठाकुर एवं डा सुनील विशेष टूर पर उपस्थित थे।  डा गाँधी ने एंटी बायोटिक के ज्यादा प्रयोग किए जाने पर पशुओ और इंसानों पर उनके पड़ने वाले दुष्प्रभाव के बारे में विस्तारपूर्वक बताया।
     डा. शालिनी ने पशुओ के पालन पोषण तथा उनके रख रखाव के बारे में जानकारी दी।  डा सुनील ने नई ब्रीडिंग पालिसी के बारे में जानकारी उपलब्ध करवाई।  कार्यक्रम की शुरुआत में मुख्यतिथि ने दीप प्रज्वलित कर इस शिविर का शुभारम्भ किया।  इससे पहले पैर वेट्स एसोसिएशन जिला के महासचिव रजनीश गौतम ने मुख्यतिथि एवं विभिन्न क्षेत्रो से आए हुए जिला के पैर वेट्स का स्वागत किया।              उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश एक मात्र ऐसा राज्य है जहाँ पर पैर वेट्स कोंसिल का गठन किया गया है तथा सेवानिवृति के बाद पशु सह चिकित्सक अपनी निजी प्रैक्टिस कर सकते है।  पशु पालक उनके अनुभव का लाभ ले सकते है। रजनीश गौतम ने बताया कि 2010 में हिमाचल प्रदेश पैरा वेट कोंसिल एक्ट बना तथा 2011 में इस कौंसिल के नियम बनाए गये थे जिसमे पशु सह चिकित्सको को कार्य करने के लिए निर्देश दिए गए।
    उन्होंने बताया कि 2010 से पहले इस तरह का कोई कानून नही बना था तथा सेवानिवृत पशु सह चिकित्सक अपने निजी प्रक्टिस नही  कर सकते थे। उन्होंने बताया कि सभी सेवा निवृत एवं कार्यरत पशु सह चिकित्सकों को इस परिषद में पंजीकृत होना जरुरी है। यह पंजीकरण तीन वर्ष के लिए होता है तीन वर्ष पुरे होने पर दुबारा से 100 रु की मामूली फीस देकर इसका नवीनीकरण होता है।
   इस एक दिवसीय सेमीनार में डा विनोद कुंदी सह निर्देशक परियोजना, डा संजीव नड्डा सह निर्देशक प्रसार पैरा वेट्स, संघ के जिला अध्यक्ष शशि पाल चंदेल व उपाध्यक्ष दिलवाग जम्बाल, मंजीत परमार, जसवंत चंदेल एवं भूतपूर्व संघ के अध्यक्ष कर्मदीन एवं जगतराम शर्मा विशेष टूर पर उपस्थित थे।
Share.

About Author

Leave A Reply