कुल्लू (एमबीएम न्यूज़ ) : उपायुक्त यूनुस ने कहा है कि विशेष स्वच्छता अभियान के अंतर्गत 5  से 15 सितंबर तक  जिला में व्यापक सफाई अभियान और जागरूकता अभियान चलाया जाएगा। इस दौरान सभी सरकारी परिसरों, शिक्षण संस्थानों और सार्वजनिक स्थलों की सफाई की जाएगी। इसके अलावा आम लोगों को कूड़ा प्रबंधन के प्रति जागरूक किया जाएगा।
        मंगलवार को बचत भवन में विशेष स्वच्छता अभियान के संबंध में विभिन्न विभागों के अधिकारियों तथा स्थानीय नगर परिषद के पदाधिकारियों के साथ बैठक की अध्यक्षता करते हुए उपायुक्त ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जिला के शिक्षण संस्थानों में विद्यार्थियों को स्वच्छता के प्रति जागरूक किया जाएगा और चित्रकला व नारा लेखन प्रतियोगिताएं करवाई जाएंगी। उपायुक्त ने कहा कि स्वच्छता में जिला प्रदेश भर में पहला और देश में सातवां स्थान हासिल कर चुका है।
       अब इसमें और सुधार तथा स्वच्छता के अन्य मानकों जैसे ठोस व तरल कूड़ा प्रबंधन को बढ़ावा देने के लिए लोगों को जागरूक किया जाएगा। उन्होंने कहा कि आम लोगों की भागीदारी से ही संपूर्ण स्वच्छता के लक्ष्य हासिल किए जा सकते हैं। जागरूक व जिम्मेदार नागरिक के रूप में अगर हम अपने घर में ही गलने – सड़ने वाले कूड़े और नष्ट न होने वाले ठोस कचरे को अलग-अलग करें तथा उसका बेहतर ढंग से निष्पादन करें तो उससे हमारे गांव, गली-मुहल्ले, शहर और पूरा वातावरण पूर्णतयः स्वच्छ रहेगा।
       बैठक में जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के परियोजना अधिकारी डाॅ. जीसी बैंस ने अभियान का ब्यौरा पेश किया। इस मौके पर डीएसपी शिव चौधरी , जिला स्वास्थ्य अधिकारी डाॅ. विक्रम कटोच, अन्य विभागों के अधिकारी, स्थानीय नगर परिषद उपाध्यक्ष गोपाल कृष्ण महंत और अन्य पार्षद भी उपस्थित थे।
       उपायुक्त यूनुस ने मंगलवार को शहर के वार्ड नंबर 6  लोअर ढालपुर और सरवरी नदी के किनारे विभिन्न विभागों के अधिकारियों, नगर परिषद के पदाधिकारियों, प्रिंट व इलैक्ट्राॅनिक मीडिया कर्मियों और स्थानीय लोगों के साथ सफाई अभियान चलाया। उपायुक्त ने अभियान के दौरान सभी के समक्ष एक उदाहरण पेश करते हुए गंदगी संभावित क्षेत्र में स्वयं जाकर कूड़ा उठाया तथा मौके पर मौजूद अन्य अधिकारियों, पार्षदों तथा स्थानीय लोगों को सफाई के लिए प्रेरित किया।
        इस अवसर पर उपायुक्त ने बताया कि 6  से 10 सितंबर तक जिला के सभी नगर निकाय क्षेत्रों के सभी वार्डों व इनके साथ लगते नदी-नालों की सफाई की जाएगी। विभिन्न सार्वजनिक स्थलों और सरकारी परिसरों की सफाई भी की जाएगी। जिला के ग्रामीण क्षेत्रों में भी विशेष अभियान चलाया जाएगा। इस दौरान जिला ग्रामीण विकास अभिकरण द्वारा चिह्नित 356 गांवों पर विशेष रूप से फोकस किया जाएगा।
      उपायुक्त ने बताया कि इस दौरान नगर निकाय और ग्रामीण क्षेत्रों में स्वच्छता का आंकलन  भी किया जाएगा। नगर निकायों के तीन सबसे स्वच्छ वार्डों और तीन सबसे स्वच्छ ग्राम पंचायतों को पुरस्कृत किया जाएगा।
       सफाई अभियान में नगर परिषद की अध्यक्ष विमला महंत, उपाध्यक्ष गोपाल कृष्ण महंत, जिला ग्रामीण विकास अभिकरण के परियोजना अधिकारी डा. जीसी बैंस, कार्यकारी अधिकारी तेज सिंह ठाकुर, अन्य अधिकारियों, नगर पार्षदों, कर्मचारियों और स्थानीय लोगों ने बड़ी संख्या में भाग लिया
Share.

About Author

Leave A Reply