एमबीएम न्यूज़/हमीरपुर

राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला ऊहल में वार्षिक पारितोषिक वितरण समारोह धूमधाम से मनाया गया। इस अवसर पर पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल ने बतौर मुख्यातिथि शिकरत की। उन्होनें अपने संबोधन में कहा कि नशा रुपी एटम बम गांव-गांव, घर-घर घूम कर नौजवान पीढ़ी और छोटे बच्चों को बर्बाद कर रहा है। उन्होंने कहा कि शुरू में छोटे बच्चों और नौजवानों को मुफ्त में नशा बांटा जा रहा है। फिर जब वह नशे के आदि हो जा रहे हैं तो वह नशा करने के लिए चोरी करते हैं। घर का सामान बेचते हैं।

चंद लोग पैसों के लालच में यह काम कर रहे हैं। लेकिन षड्यंत्र बहुत बड़ा है।  जिसका अंदाजा मुम्बई में पकड़े एक हजार करोड़ रूपये के नशे के जखीरे से लगाया जा सकता है। प्रो. धूमल ने कहा कि आज देश पर खतरा परमाणु हमले का बिलकुल भी नहीं है। हमारा देश स्वयं एक आण्विक शक्ति संपन्न देश है, जिसका श्रेय अटल बिहारी वाजपेयी जी को जाता है। देश का प्रधानमंत्री बनने के मात्र दो महीनों के अंदर दो परमाणु विस्फोट कर उन्होंने भारत को परमाणु शक्ति संपन्न राष्ट्रों की लाइन में ला खड़ा किया था।

देशभक्ति और दृढ़ इच्छाशक्ति वाले नेतृत्व के धनी अटल  ने कारगिल युद्ध के दौरान अमेरिका जैसे देश का दबाव होने के बावजूत यह कह कर समझौता करने से मना किया था कि जब तक मेरे देश की एक इंच जमीन पर भी घुसपैठिया मौजूद है। तब कोई  समझौता नहीं किया जाएगा। शिक्षा का लक्ष्य व्यक्ति को शिक्षित बनाने के साथ विद्वान बनाना भी है। उसके व्यक्तित्व का सर्वांगीण विकास करना है। किताबी कीड़ा होने से कुछ पुस्तकों का थियोरिटिकल ज्ञान तो हो सकता है। मगर संपूर्ण जीवन में वह काम नहीं आता, व्यक्तित्व का आल राऊंड डवेलपमेंट अति आवश्यक है।

Share.

About Author

Leave A Reply