एमबीएम न्यूज़/धर्मशाला

शहरी विकास, आवास एवं नगर नियोजन मंत्री सरवीन चौधरी ने कहा कि सरकार प्रदेश के प्रतिभाशाली छात्र-छात्राओं को प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी में मदद कर रही है, ताकि उचित मार्गदर्शन के अभाव में अथवा आर्थिक तंगी के कारण किसी भी विद्यार्थी की तैयारी प्रभावित न हो। उन्होंने कहा कि बारहवीं कक्षा के विद्यार्थियों को जेईई मेन, एनईईटी इत्यादि परीक्षाओं तथा अन्य उच्च स्तरीय शैक्षणिक संस्थाओं में प्रवेश हेतू कोचिंग की आवश्यकता होती है। इसके अलावा महाविद्यालय से निकले हुए छात्रों को रोजगारपरक प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी की जरूरत होती है। उन्होंने कहा इस उद्देश्य की प्राप्ति के लिए प्रदेश सरकार ‘‘मेधा प्रोत्साहन योजना’’शुरू की है। इसके तहत बच्चों को राज्य में अथवा राज्य से बाहर कोचिंग के लिए सहायता उपलब्ध करवाई जाएगी।

सरकार ने इसके लिए 5 करोड़ रुपये का प्रावधान किया है।      वे आज शाहपुर विधान सभा क्षेत्र के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला रजोल के वार्षिक पारितोषिक वितरण समारोह में बतौर मुख्यातिथि शिरकत करने के उपरांत बोल रही थीं। शहरी विकास मंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार शिक्षण संस्थानों में मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध करवाने के लिए प्रयासरत है और बच्चों को गुणात्मक शिक्षा के साथ-साथ संस्कारयुक्त शिक्षा पर बल दिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि बच्चे पढ़ाई के साथ-साथ अन्य गतिविधियों में भी बढ़-चढ़ कर भाग लें जिससे बच्चों के सर्वांगीण विकास में उनकेे अभिभावकों व अध्यापकों का अहम् भूमिका रहती है। अध्यापकों द्वारा विद्यार्थी जीवन में बताये गये रास्तों व शिक्षकों का वे हमेशा याद रखते हुये आगे बढ़़ते है।  स्कूल के प्रधानाचार्य सुरेन्द्र कुमार ने मुख्यातिथि का स्वागत किया तथा वार्षिक रिपोर्ट पढ़ी व स्कूल द्वारा चलाई जा रही विभिन्न गतिविधियों बारे जानकारी दी। स्कूल प्रबंधन के डीपी बलवीर सिंह ने मंच संचालन किया।

स्कूल प्रबंधन के प्रधान कमल कुमार ने भी अपने विचार रखें व स्कूल की मांगों को शहरी विकास मंत्री के समक्ष रखी।   इससे पूर्व शहरी विकास मंत्री ने शाहपुर 39 मील स्थित बचपन प्ले स्कूल के वार्षिक पारितोषिक वितरण समारोह में बतौर मुख्यातिथि शिरकत की।    स्कूल के निदेशक विशाल कुमार ने मुख्यातिथि का स्वागत किया व स्कूल में आने पर शहरी विकास मंत्री का आभार जताया।उन्होंने स्कूल प्रबंधन को आठ हजार रुपये देने की घोषणा की।   इस अवसर पर स्कूली बच्चों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये। सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए मुख्यातिथि ने सात हजार रुपये देने की घोषणा की। शहरी विकास मंत्री ने दसवीं कक्षा व जमा दो कला संकाय तथा वणिज्य संकाय में उत्कृष्ट बच्चों को ग्यारह सौ रुपये के नगद इनाम व स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया।

घोषणाएं 

शहरी विकास मंत्री सरवीन चौधरी ने स्कूल के दो नये कमरे, स्टेज के लिए 1.25 लाख तथा शौचालय की मरम्मत के लिए एक लाख रुपये देने की घोषणा की। उन्होंने स्कूल प्रबंधन को नये कमरे व्यवस्थित ढंग ये बनाने का सुझाव भी दिया। इसके उपरांत मेधावी छात्राओं को पुरस्कृत किया।

इस अवसर पर शिक्षक महासंघ के प्रदेशाध्यक्ष पवन कुमार, सेवानिवृत उपनिदेशक बलवंत मिन्हास, बीडीसी के पूर्व अध्यक्ष अश्वनी चौधरी, मीडिया प्रभारी राकेश मनु, पूर्व प्रधान रजोल प्रदीप कुमार, एसडीओ विवेक कालिया, अनीश ठाकुर सहित विभिन्न स्कूलों के प्रधानाचार्य, बीआरसी देश राज, सुनील धीमान, शिक्षक महासंघ के जिलाध्यक्ष डॉ जोगिन्द्र कुमार, वन परिक्षेत्र अधिकारी सुरेश चंद, सेवानिवृत अध्यापक केवल कुमार, भाजयुमो के विजय कुमार के इलावा बच्चों के अभिभावक व स्थानीय लोग उपस्थित रहें। 

Share.

About Author

Leave A Reply