एमबीएम न्यूज़/कांगड़ा 

  जहां देश को डिजिटल करने की पहल जोरों पर है, वहीं तहसील रक्कड़ के ऐसे भी गांव हैं जहां आजादी के 70 वर्षों बाद भी गाँवों के लोग पक्की सड़क बनने के इंतजार में है। औद्योगिक और तकनीकी क्षेत्र में भारत का पूरे विश्व में डंका बज रहा है। इतना सब कुछ होने के बावजूद यह भी सच है कि जिला कांगड़ा की तहसील रक्कड़ के कई गांव एक पक्की सड़क के लिए तरस रहे हैं। ऐसा लगता है अभी तक यहां विकास की किरण तक नहीं पहुंची है। इन गांवों के लोगों की जिंदगी नरक से बदतर है। दो हजार से ज्यादा आबादी वाले ये गांव आधारभूत सुविधाओं के लिए तरस रहे हैं।

   गौरतलब है कि सलेटी से तुतडू सड़क जिसकी लंबाई लगभग 8 किलोमीटर है जो आज तक पक्की नहीं हो पाई है। कई दशक बीत गए लेकिन आज तक इस स्थानीय सड़क पर न ही किसी अधिकारी की नजर पड़ी और न ही किसी जन प्रतिनिधि की। सरकारों द्वारा बार-बार विकास का ढिंढोरा पीटा जाता है। मगर विकास कहां हो रहा है यह कहीं नहीं दिख रहा है। स्थानीय गांवों सलेटी, कुड़ना, बेहड़, सिद्ध पुनणी, भड़वार, पुनणी, खुबन, मगरू, तुतडू आदि गांव के बाशिंदे पक्की सड़क के अभाव में असुविधा पूर्ण स्थिति में आवागमन कर रहे है। मांग के बावजूद भी आज तक ग्रामीणों को पक्की सड़क की सुविधा उपलब्ध नहीं हो सकी है। ग्रामीणों को आवागमन में परेशानी का सामना करना पड़ता है। सर्वाधिक परेशानी बारिश के समय होती है।

    बारिश होने से कच्ची सड़क कीचड़ से लबालब हो जाती है। जिसके चलते स्थानीय ग्रामीणों, स्कूल और कॉलेज जाने वाले बच्चों को  परेशानी झेलनी पड़ती है। वहीं अगर कोई बरसात के मौसम में बीमार हो जाए तो उसे अस्पताल तक पहुंचाने में पसीने छूट जाते हैं। हालांकि ग्रामीण कई बार सड़क निर्माण  की मांग कर चुके हैं लेकिन मांग को तवज्जो नहीं मल सकी है। वहीं, स्थानीय गाँवों के बुजुर्ग बताते हैं, “जिंदगी लालटेन की रोशनी में कट गई। जीते जी एक बार गांव की सड़क पक्की हो जाती तो ख़ुशी होती कि जो तकलीफ हम लोगों ने देखी है वो कम से कम अब बच्चे न देखें”। बस चुनावों के दौरान वायदे किए जाते हैं।

    पांच साल ऐसे ही निकल जाते हैं। लोकसभा चुनाव को देखते हुए ग्रामीणों में सरकार के प्रति नाराजगी उत्पन्न हो रही है। उक्त गावों में पक्की सड़क निर्माण हो जाने से स्थानीय गांवों के हजारों ग्रामीणों को सुविधा प्राप्त होगी। स्थानीय ग्रामीणों ने लोक निर्माण विभाग, उद्योग मंत्री विक्रम ठाकुर एवं प्रदेश सरकार से आग्रह किया है कि सलेटी-तुतडू सड़क को यथाशीघ्र पक्का करावाया जाए। ताकि ग्रामीणों का आवागमन बारह माह सुचारु रुप से हो सके। सड़क निर्माण हो जाने पर ग्रामीण लोनिवि, उद्योगमंत्री बिक्रम ठाकुर एवं प्रदेश सरकार के आभारी रहेंगे।

Share.

About Author

Leave A Reply