सुभाष कुमार गौतम/घुमारवीं

  घुमारवीं उपमंडल के अंतर्गत पड़ने वाली ग्राम पंचायत डंगार में शिमला-धर्मशाला राष्ट्रीय उच्च मार्ग 103 पर एक साल पहले एक शौचालय का निर्माण किया गया था। जिस पर लाखों रूपये खर्च किए गए थे। जब यह शौचालय बनने लगा तो लोग खुश हुए कि अब यहां प्रतिदिन रोज़मर्रा के काम से आने वाले लोगों को खासकर महिलाओं को कोई चिंता नहीँ होगी। मगर काम इस कदर लटका कि आज तक किसी ने दोबारा नज़र ही नहीं डाली। अब तो यह शौचालय गंदगी का घर बनने लगा है और बदबू मारने लगा है। जिस कारण कई बीमारयों के फैलने का खतरा बना हुआ है। डंगार चौंक के पास सड़क के किनारे बन रहे इस शौचालय से अब आम जनता व स्थानीय व्यापारी दुखी हो रहे है। क्योंकि इसकी बदबू उनके घरों व दुकानों तक पहुंच रही है।

   आलम यह है कि लोग रात को इसके अंदर ही खुले में शौच जाने लगे है। इतना ही नहीं इसके लिए जो सेफटिक टैंक बना है। उस पर कोई ढक्कन नहीं है और टैंक पूरा पानी से भरा पड़ा हुआ है। जिससें डेंगू जैसी बीमारियां फैलने का खतरा बना है। कभी भी कोई भी हादसा हो सकता है, क्योंकि यहां से स्कूल जाने वाले छोटे-छोटे बच्चे गुजरते है। उनका टैंक में डूबने का खतरा बना हुआ है। इस शहर के स्थानीय लोगों व व्यापारियों ने नेशनल हाईवे विभाग से मांग की है कि या तो इस शौचालय का कार्य पूर्ण रूप से शुरू किया जाए या फिर बंद कर दिया जाए। ताकि आम जनता को इसकी बदबू से परेशान ना होना पड़े।

Share.

About Author

Leave A Reply