एमबीएम न्यूज़/नाहन
सिरमौर अखिल भारतीय कोली समाज की जिला कार्यकारिणी की बैठक रविवार को नाहन में हुई। जिसकी अध्यक्षता जिला प्रधान संजय पुंडीर ने की। इस मौके पर पूर्व प्रदेश अध्यक्ष प्रो. बलबीर सिंह विशेष रूप से मौजूद रहे। बैठक का संचालन महासचिव संदीपक तोमर ने किया। इस दौरान नाहन इकाई का गठन किया गया। जिसमें सर्वसम्मति से मझौली के बाबू राम को प्रधान, बर्मा पापड़ी पलियों के हरीष भूषण को सचिव, देवका पुडला से नागेंद्र सिंह को उप प्रधान, रामकुंडी से अत्री देवी को उपप्रधान, बोहलियों से कर्मपाल सिंह को मुख्य सलाहकार चुना गया। शेष कार्यकारिणी के गठन के लिए नवनियुक्त प्रधान बाबू राम को दायित्व सौंपा गया। बैठक में जिला कार्यकारिणी का भी विस्तार किया गया। जिसमें शिलाई विस क्षेत्र से सुनील वर्मा, टिकाराम, सुनील कुमार, बलदेव सिंह, विक्रम सिंह को जगह दी गई।

      कोली समाज जिला कार्यकारिणी की बैठक करते प्रधान संजय पुंडीर

             बैठक में इस बात को लेकर रोष जाहिर किया गया कि शिलाई में मारे गए जिंदान को जो सुविधाएं सरकार ने देने का वायदा किया था। उसे अभी तक पूरा नहीं किया गया। इस केस को सीबीआई को सौंपे जाने की भी मांग की गई। सदस्यों ने नेरवा में हुई एससी युवक की हत्या पर भी गहरा रोष प्रकट किया। प्रधान संजय पुंडीर ने कहा कि सरकार को ऐसे मामलों में तत्काल कार्रवाई करने की आवश्यकता है।
         बैठक में सभी सदस्यों ने कोली समुदाय के जनप्रतिनिधि को अभी तक मंत्रिमंडल में जगह न दिए जाने पर गहरा रोष जताया गया। पदाधिकारियों ने कहा कि सरकार इस समुदाय की अनदेखी कर रही है। जिसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता। उन्होंने प्रदेश सरकार से जिला सिरमौर के किसी एक जनप्रतिनिधि को मंत्रिमंडल में जगह देने की मांग की। इस अवसर पर संजय पुंडीर ने बैठक में सौ नए सदस्य बनाए जाने की भी जानकारी दी।
       बैठक में जिला प्रधान संजय पुंडीर, महासचिव संदीपक तोमर, पूर्व प्रदेशाध्यक्ष प्रो. बलबीर सिंह, पूर्व जिला प्रधान भगत राम पुंडीर, मुख्य सलाहकार राम स्वरूप चौहान, पूर्व जिलाध्यक्ष रामेश्वर सिंह, मनीराम पुंडीर, अशोक तोमर, लज्जाराम, कुलदीप, नागेंद्र सिंह, हरीश, भूषण, मनीष तोमर, कर्मपाल, बाबूराम, श्यामा देवी, रितु, अत्री देवी, मधु, सीमा, सुनील वर्मा, अनील कुमार, टिका राम, सुनील कुमार, बलदेव ङ्क्षसह, विक्रम सिंह, काकाराम पुंडीर, देवकांत सिंह, अक्षय पुंडीर आदि उपस्थित रहे।
Share.

About Author

Leave A Reply