अभिषेक मिश्रा/बिलासपुर
इसी भाव के साथ बिलासपुर की मशहूर बंदला धार में एक छोटा सा सेवा प्रकल्प शुरू हुआ। ग्रामीण क्षेत्रों खासकर बंदला जैसे गांव में पशुओं के चारे के लिए मातृशक्ति को जंगल मे जाकर घास लाना पड़ता है। बंदलाधार में तो पहाड़ी उत्तर कर घास लाने जाना पड़ता है 3-4 किलोमीटर की दूरी से वो भी पहाड़ी रास्ता खड़ी चढ़ाई। जब घास लेकर मातृशक्ति वापस आती है तो पीने के पानी की दिक्कत होती है। इस निमित आज उस जंगल मे 4 स्थानों पर पानी के लिए घड़े लगाए गए। रोज उनमे पानी भरने की योजना एवम व्यवस्था की गई।
इसकी शुरुआत बिलासपुर शहर के वरिष्ठ पत्रकार अरुण डोगरा रीतू व उनकी धर्मपत्नी सुमन डोगरा के कर कमलों से घट स्थापना हुई। डॉ महेंद्र ठाकुर ने इस कार्य के लिए उनका धन्यवाद किया।

     उन्होंने बताया कि सभी घड़ों में हर रोज पानी भरा जाएगा और उन्हें सुरक्षित भी रखा जाएगा। उन्होंने बताया कि इनकी साफ-सफाई का भी पूरा ध्यान रखा जाएगा। इस अवसर पर अरुण डोगरा रीतू ने कहा कि भले ही ये कार्य बहुत छोटा है पर इसके पीछे युवाओं द्वारा सेवा कार्य का जो संकल्प है वो महत्वपूर्ण है।

     इस कार्यक्रम मे रामलोक ठाकुर पूर्व प्रधान बंदला महेन्द्र ठाकुर सतीश ठाकुर शिवांशु ठाकुर अभिषेक ठाकुर विपिन ठाकुर अशोक ठाकुर अनिल ठाकुर नवीन ठाकुर इत्यादि उपस्थित रहे।

Share.

About Author

Leave A Reply