अभिषेक मिश्रा / बिलासपुर
दिन रात देश की सीमाओं पर अखण्ड़ भारत की रक्षा में तैनात भारत माता के बहादुर लाड़ले अपने कर्तव्यों को निभाते -निभाते सीनों पर गोलियां खाकर वीरगति प्राप्त करके राष्ट्र भक्ति की नई मिसालें कायम कर के हम देशवासियों को गौरवान्वित तो कर जाते है। लेकिन हम धीरे-धीरे उनकी ”शहादत” को भूलकर उन्हें इतिहास के पन्नों तक सीमित कर देते है।
यह उदगार उपायुक्त विवेक भाटिया ने श्री नैना देवी जी विधानसभा क्षेत्र के मैहथी गांव में एक ईंट शहीद के नाम अभियान के अंर्तगत आयोजित कार्यक्रम के दौरान प्रकट किए। उन्होनें कहा कि देश की आजादी और सुरक्षा के लिए अपने प्राणों की आहुतियां देनें वाले वीर सपूतों की बलिदान गाथाओं की स्मृतियां धुमिल न हों इसके लिए वीर भूमि के नाम से विख्यात जिला बिलासपुर में शहीदों को सम्मान देने के लिए ”एक ईंट शहीद के नाम ” अभियान चलाकर एक अतुलनीय प्रयास को अमलीजामा पहनाया जा रहा है।
इस अवसर पर मैहथी गांव के लोगों ने एक ईंट शहीद के नाम अभियान को सफल बनाने के लिए दस बैग सीमेंट और 2168 ईंटें उपायुक्त विवेक भाटिया को संयोजक संजीव राणा को देने के लिए भेंट की। इस अवसर पर दुर्गा राम नम्बरदार, सूबेदार मेजर लेखराम, हवलदार कन्हैया राम, रामलोक, प्रधान कमल सिंह, बीडीसी सदस्य छोटे लाल, सुनीता देवी, सत्यादेवी, मनोहर लाल, सीताराम व सूबेदार मेजर प्रेम सिंह मनहास ने शहीदों की शहादत का कर्ज चुकाने के लिए ”एक ईन्ट शहीद के नाम” अभियान की अनूठी पहल को बिलासपुर से आगे बढानें का संकल्प लिया है।
Share.

About Author

Leave A Reply