बिलासपुर ( अभिषेक मिश्रा ): प्रदेश के स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण, राजस्व एवं विधि मन्त्री कौल सिंह ठाकुर ने कहा कि सरकार द्वारा जिला के क्षेत्रीय अस्पताल  में कैंसर रोगियों के ईलाज की सुविधा के लिए कीमोंथैरेपी की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है, जबकि डायलैसिस की सुविधा बहुत जल्द उपलब्ध करवा दी जाएगी और क्षेत्रीय अस्पताल में बिस्तरों की संख्या को बढ़ाकर 300 करने का प्रयास किया जाएगा ।
           वह आज क्षेत्रीय अस्पताल में 43 लाख रू0 की लागत से निर्मित किए गए ट्रामा सेटर के नव निर्मित शल्य कक्ष का लोकार्पण करने व 45 लाख रू0 की लागत से निर्मित किए जाने वाले शव गृह की आधारशिला रखने के उपरान्त स्वास्थ्य परिसर में जनसभा को सम्बोधित करते हुए जानकारी दे रहे थे।
        उन्होंने कहा कि कैंसर के मरीजों को ईलाज करवाने के लिए पीजीई चण्डीगढ़ व अन्य राज्यों में जाना पड़ता था, जिससे समय से साथ-साथ उनको अर्थिक रूप से भी नुकसान उठाना पड़ता था, लेकिन अब सरकार द्वारा सभी जिलों के बडे चिकित्सालयों में कीमौथेरेपी की सुविधा उपलब्ध करवाई गई है और इसी तरह किडनी रोगियों को डायलेसिस की सुविधा भी शीघ्र ही सभी जिला अस्पतालों  में उपलब्ध करवाई जा रही है जिसके लिए सभी औपचारिकताएं पूर्ण की जा रही है ।
        उन्होंने कहा कि शव गृह को आधुनिक सुविधाओं सहित निर्मित किया जाएगा, जिसमें एक साथ चार डैड बोडियो को 12 से 15 दिनों तक रखने की सुविधा उपलब्ध होगी । उन्होंने कहा कि सरकार ने कोशिश की है कि शहरों के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी अच्छी व बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं  दी जाए, जिसके लिए पिछले पौने पांच सालों के दौरान 122 नये स्वास्थ्य संस्थान खोले अथवा स्तरोन्त किए गए है जिसमें 40 प्राथमिक स्वास्थ्य संस्थानों को स्तरोन्त कर सामुदायिक स्वास्थ्य सस्ंथान, 32 सामुदायिक संस्थानों को सिविल हस्पताल का दर्जा दिया गया है जिसमें 9 स्वास्थ्य संस्थान
जिला के लिए भी स्वीकृत किए गए है ।
         उन्होंने कहा कि प्रदेश के विभिन्न अस्पतालों में 750 नये विस्तरों को जोड़ा गया है और 625 चिकित्सक तथा 11 सौ स्टाफ नर्सों की नई भर्ती कर स्वास्थ्य सुविधाओं को सुदृढ़ करने का प्रयास किया है । उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा निर्णय लिया है कि अब रोगी कल्याण समिति के तहत कोई भी भर्ती नहीं की जाएगी और रोगी कल्याण समिति के सभी कर्मचारियों को सरकार के अधीन लाकर तीन साल तक कांट्रेक्ट पर रहने के उपरान्त रेगुलर किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा हाल ही में 2000 विभिन्न विभागों के पदों को कमीशन के माध्यम से भरने का निर्णय लिया है , जिसमें से अधिकतर पद स्वास्थ्य संस्थानों को मजबूत करने के लिए भरे जा रहे है ।
           उन्होंने कहा कि मण्डी, नाहन, चम्बा में मेडिकल काॅलेज खोलकर सौ-सौ चिकित्सक को तैयार किया जा रहा है और अगले साल हमीरपुर में भी मैडिकल कॉलेज खोला जाएगा । उन्होंने कहा कि यह पहला मौका है कि जब किसी प्रदेश सरकार द्वारा एक वर्ष के भीतर चार मैडिकल कॉलेज खोले गए हो । उन्होंने कहा कि मेडिकल कालेजो  की निगरानी के लिए प्रदेश में एक हेल्थ साइंस युनिवर्सिटी भी खोली जाएगी, जिसके लिए प्रसास जारी है ।
          उन्होंने कहा कि शहरों की अपेक्षा 90 प्रतिशत जनसंख्या ग्रामीण क्षेत्रों में रहती है, इसलिए प्रदेश सरकार द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य संस्थान खोलने पर बल दिया गया है । उन्होंने कहा कि पल्स पोलियों को जड़ से खत्म किया जा चुका है और सरकार द्वारा खसरा व रूबेला जैसी जघन्य बीमारी को जड़ से खत्म करने के लिए 30 अगस्त से पूरे प्रदेश में नौ माह से 15 वर्ष तक के 20 लाख बच्चों के टीकाकरण का अभियान चलाया गया है और अब तक 90 प्रतिशत से अधिक टीकारण किया जा चुका है और जिला  में तो आंकड़ा 98 प्रतिशत पहुचं गया है जो कि बहुत बड़ी उपलब्धि है ।
         उन्होंने कहा कि गरीबों व विभिन्न बिमारियों से पीड़ित रोगियों को प्रदेश सरकार द्वारा राहत देते हुए सभी स्वास्थ्य संस्थानों के माध्यम से मरीजों को 330 जैनेरिक दवाएं मुफत देने का निर्णय लिया है और स्वास्थ्य संस्थानों में कार्यरत डाॅक्टरों को भी जैनेरिक दवाईयां लिखने के लिए निर्देश दिए गए है । उन्होंने कहा कि प्रदेश के हर व्यक्ति को हेल्थ प्रोटेक्शन स्कीम के तहत लाया गया है और गरीबी रेखा से नीचे गुजर-बसर करने वाले लगभग 30 लाख लोगों को युनिवर्सल हेल्थ स्कीम के तहत लाकर छोटी-मोटी बिमारी पर 1.75 लाख तथा गम्भीर बिमारी पर 30 लाख तक का ईलाज मुफत करवाया जा रहा है ।
          स्थानीय सदर विधानसभा क्षेत्र के विधायक बंबर ठाकुर ने मुख्य अतिथि का स्वागत करते हुए जिला के विभिन्न स्वास्थ्य संस्थानों के सुदृढ़ीकरण  के लिए किए गए प्रयासों के लिए स्वास्थ्य मंत्री का आभार व्यक्त किया । उन्होंने कहा कि एक वर्ष के रिकार्ड समय में ट्रामा सेटंर के शल्य कक्ष का निर्माण कार्य पूर्ण किया गया और 11 करोड़ रू0 की लागत से निर्मित किए जा रहे नर्सिंग इन्सिच्युशन भवन का कार्य प्रगति पर है उन्होंने कहा कि अस्पताल  के लिए कीमोथैरेपी व डायलैसिस की सुविधा तथा मातृ एवं शिशु स्वास्थ्य खण्ड देने का श्रेय भी ठाकुर कौल सिंह को जाता है जिनके सहयोग से अस्पताल में नई सिवरेज लाईन बिछाने 10 लाख तथा पानी की समस्या खत्म करने के लिए 15 लाख रू0 उपलब्ध करवाए गए है ।
         इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा  वीके चैधरी, एएसपी कुलदीप राणा, एसडीएम सदर हरीश गज्जू, पूर्व विधायक बाबूराम गौतम, नर्सिंग संघ की अध्यक्ष तथा राज्य कर्मचारी सघं की उपाध्यक्ष भावना ठाकुर, एमओएच डा0 परविन्दर सिंह, वरिष्ट चिकित्सक डा सतीश, समस्त बीएमओ, नगर परिषद के पार्षद, व्यापारी वर्ग, जिला व मण्डल कांग्रेस के पदाधिकारी, सतपाल शर्मा, भगत राम, युवा कांग्रेस के आदित्य गोतम तथा अन्य पदाधिकारी व बड़ी संख्या में विभिन्न विभागों के अधिकारी व स्वास्थ्य संस्थानों के अधिकारी कर्मचारी उपस्थित थे ।
Share.

About Author

Leave A Reply