हमीरपुर(एमबीएम न्यूज़): 68वें मंडल स्तरीय वन महोत्सव का हिमाचल प्रदेश राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के उपाध्यक्ष राजेन्द्र राणा ने ग्राम पंचायत मति टिहरा के गांव घरियाणां ब्राहमणा में आंवले का पौधा रोपित कर शुभारंभ किया।
       उन्होंने कहा कि पर्यावरण को स्वच्छ एवं इसका संतुलन बनाए रखने के लिए वनों का विशेष महत्व है। वन हमारी प्राकृतिक संपदा है इसलिए वृक्षों का उपयोग करने के साथ-साथ प्रत्येक व्यक्ति को  हर वर्ष कम से कम 10 विभिन्न प्रकार की किस्मों के पौधों का रोपण करे तथा उनकी उचित देखभाल को सुनिश्चित बनाएं।
         उन्होंने कहा कि धरती पर प्राकृतिक आपदाओं के आने का मुख्य कारण वनों का अवैध कटान होना है। अधिक से अधिक पौधे रोपित कर जहां धरती को हरा-भरा बनाया जा सकता है वहीं प्राकृतिक आपदाओं से होने वाले नुक्सान को भी कम किया जा सकता है।
        राजेन्द्र राणा ने कहा कि सुजानपुर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत गत साढ़े चार वर्षों के दौरान दो अरब से भी अधिक विभिन्न विकासात्मक कार्यों पर व्यय किए गए जो कि क्षेत्र में विकास की गति को परीलक्षित करता है। प्रदेश के मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह आगामी 3 सितम्बर को सुजानपुर विधानसभा क्षेत्र के प्रवास पर आ रहे हैं तथा इस दौरान वह क्षेत्र में लगभग 40 करोड़ रूपए की विभिन्न विकासात्मक परियोजनाओं का शिलान्यास तथा लोकार्पण करेंगे।
          इस अवसर पर वन अरण्यपाल अनिल जोशी ने वनों के महत्व तथा उनकी उपयोगिता की विस्तार से जानकारी देते हुए बताया कि वनों का मानव जीवन से घनिष्ठ सम्बंध है। इस मौके पर विनोद ठाकुर, सहायक वन अरण्यपाल डा0 मुनीश रामपाल, उपनिदेशक कृषि एसडीओ लोक निर्माण विभाग के अतिरिक्त तारा चंद, बलजीत तथा ओम प्रकाश भी उपस्थित थे।
Share.

About Author

Leave A Reply